भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

अपने लोग पराया लागै / नन्दलाल यादव 'सारस्वत'

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

अपने लोग पराया लागै
यही सेॅ दुनियाँ माया लागै।

गाछ-विरिछ सब कटलोॅ जाय
धूपे रं ई छाया लागै।

तोरोॅ वास मनोॅ मेॅ होथैं
चन्दन रं ई काया लागै।

सच्चा मित्र मिलै जों, ऊ तेॅ
घर के छत के पाया लागै।

आखिर कीचड़ मेॅ फँसनै छै
जों कंचन में काया लागै।