भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  काव्य मोती
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

अपने ही रचे को / सांवर दइया

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

पहली बरसात के साथ ही
घरों से निकल पडते हैं बच्चे
रचने रेत के घर

घर बनाकर
घर-घर खेलते हुए
खेल ही खेल में
मिटा देते हैं घर

अपने ही हाथों
अपने ही रचे को मिटाते हुए
उन्हें नहीं लगता डर

सुनो ईश्वर !
सृष्टि को सिरज-सिरज
तुम जो करते रहते हो संहार
बने रहते हो-
बच्चों की ही तरह निर्लिप्त-निर्विकार ?