भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

अपरिचित / रामावतार यादव 'शक्र'

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

आज तक भी मैं अपरिचित,
यदपि इतने दिवस बीते।

1.

खोज कर हारा, न मैंने प्रेम का संधान पाया;
भटकता उन्माद लेकर, और यह क्षणभंगुर काया।
भूल अपने को, किसी की याद में जीवन गँवाया,
किन्तु, अब तक भी उसे उपेक्षित, यह न जाने कौन माया।

बीतते निशि-दिवस मेरे
छिन्न मुक्ताकण पिरोते।
आज तक भी मैं अपरिचित,
यदपि इतने दिवस बीते।