भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार
Roman

अपील / आलोक श्रीवास्तव-१

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

पहचानो और पकड़ो उनको
चहरों पर
जो रोज़ नक़ाबें बदल रहे हैं
पहचानो और पकड़ो उनको
भॊली सूरत
प्यारी सूरत
साँवली सूरत
गोरी सूरत
जिनको सूरत समझ रहे हो
सिर्फ़ मुखौटे हैं वो ख़ालिस!
जिनके पीछे
ख़ुदग़र्जी और चालाकी का
एक बहुत भद्दा चहरा है
पहचानो और पकड़ो उनको
नोंचो उसको।