भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार
Roman

अबै अठै सूं आगै कांई ठा / सांवर दइया

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

अबै अठै सूं आगै कांई ठा
कुण चालैला सागै कांई ठा

आंख्यां च्यार कर चैन सोधै हो
रात-रात क्यूं जागै कांई ठा

कठैई हार नीं जावां बाजी
ऐडो नित क्यूं लागै कांई ठा

सांस सूं कंवळो हुवता थकां ई
कद बांध्यो ईं धागै कांई ठा

आं सांसां में ऊगै अगन-बिरख
पछै डर किंयां भागै कांई ठा