भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  काव्य मोती
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

अबै तूं सुणलै आ साफ़ भायला / सांवर दइया

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

अबै तूं सुणलै आ साफ़ भायला
मरता चाबां म्हैं आक भायला

बांनै समंदर म्हांनै छांट नईं
आ देख फाटगी बाक भायला

तीसूं रोज रा है रोवणा ऐ
म्हांनै कर अब तूं माफ़ भायला

कांई ठा कद चिपगी आ म्हारै
दुख चमचेड परै राख भायला

कद तांई बैठा उडीकां अबै
ना ’गोदो’ है ना डाक भायला