भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

अब के बरस भेज भैया को बाबुल / शैलेन्द्र

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

अबके बरस भेज भैया को बाबुल,
सावन में लीजो बुलाय रे
लौटेंगी जब मेरे बचपन की सखियाँ,
दीजो संदेसा भिजाय रे

अंबुवा तले फिर से झूले पड़ेंगे,
रिमझिम पड़ेंगी फुहारें
लौटेंगी फिर तेरे आँगन में बाबुल,
सावन की ठंडी बहारें
छलके नयन मोरा कसके रे जियरा,
बचपन की जब याद आए रे
अबके बरस भेज भैया को बाबुल

बैरन जवानी ने छीने खिलौने,
और मेरी गुड़िया चुराई
बाबुल थी मैं तेरे नाज़ों की पाली,
फिर क्यूँ हुई मैं पराई
बीते रे जुग, कोई चिठिया ना पाती,
ना कोई नैहर से आए रे
अबके बरस भेज भैया को बाबुल …

(फ़िल्म - बन्दिनी 1963)