भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

अब क्या छुपा सकेंगी उरयानिआँ हविस की / सीमाब अकबराबादी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज


अब क्या छुपा सकेगी उरयानियाँ-हविस की?
काँधों से पिंडलियों तक लटकी हुई क़बायें॥

वक़्ते-विदा-ए-गुलशन नज़दीक आ रहा है।
अब आशियाँ उजाड़ें या आशियाँ बनायें॥