भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

अब जीवरा जुड़ाही / पीसी लाल यादव

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

जुड़-जुड़ पुरवाही, जंगल-जंगल ममहाही
झिरिया झर झर बोहाही, अब जीवरा जुड़ाही।
मोर राम...

सरर-सरर सरई सइगोन, डोले डारा-पाना।
कुहुक-कुहुक कारी कोयली, गाए गुरतुर गाना।

चींव-चींव चिरई चहचहाही, चारा चरके अघाही।
मुड़ी मगन डोलाही, मन तभे पतियाही।
मोर राम...

तेंदूपाना टोरे हुलस, हुलस चेलिक मोटियारी।
करमा के तान भरे मया-पीरा के पिचकारी॥

मउहा मन ममहाही, कउहा तन गदराही,
सुतरा संगी के आही, हिरदे गजब कल्पाही।
मोर राम...

ओली-ओली धरे संगी, तेंदू चार-चिरऊँजी।
हिरदे के तिजौरी म भरे, धरे पिरित के पूंजी॥

मंदरी मंदरिया बजाही, घुंघरू गोरी ह मिलाही।
ताली देखइया बजाही, तब बड़ा मजा आही।
मोर राम...