भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

अब जुदाई न कर ख़ुदा सूँ डर / वली दक्कनी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

अब जुदाई न कर ख़ुदा सूँ डर
बेवफ़ाई न कर ख़ूदा सूँ डर

रास्‍त कैशाँ सूँ ऐ कमाल अबरू
कज अदाई न कर खुदा सूँ डर

मत तग़ाफ़ुल कूँ राह दे ऐ शोख़
जगहँसाई न कर खुदा सूँ डर

है जुदाई में ज़िदगी मुश्किल
आ, जुदाई न कर खुदा सूँ डर

आशिक़ाँ कूँ खहीद कर के सनम
कफ़हिनाई न कर खुदा सूँ डर

आरसी देखकर न हो मग़रूर
ख़ुदनुमाई न कर खुदा सूँ डर

उस सूँ जो आशना-ए-दर्द नहीं
आशनाई न कर खुदा सूँ डर

रंग-ए-आशिक़ ग़ज़ब सूँ ऐ जा़लिम
कुहरबाई न कर खुदा सूँ डर

ऐ 'वली' ग़ैर-ए-आस्‍ताना-ए-यार
जुब्‍बा साई न कर खुदा सूँ डर