भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

अब / मरीना स्विताएवा

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज


अब ईश्वर नहीं पहले की तरह उदार
न ही वे नदियाँ उन तटों पर।
सांझ के विशाल द्वारों पर
चली आओ, ओ ख़ूबसूरत फ़ाख़्ताओ !

और मैं ठंडी रेत पर लेटी
चल दूंगी बिना गिनती, बिना नाम के उस दिन...
जिस तरह पुरानी छोड़ देता है साँप केंचुल
छोड़ आई हूँ पीछे अपना यौवन।

रचनाकाल : 17 अक्तूबर 1921

मूल रूसी भाषा से अनुवाद : वरयाम सिंह