भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  काव्य मोती
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

अभिधा में नहीं / नंदकिशोर आचार्य

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

जो कुछ कहना हो उसे
—ख़ुद से भी चाहे—
व्यंजना में कहती है वह
कभी लक्षणा में
अभिधा में नहीं लेकिन
                     कभी

कोई अदालत है प्रेम जैसे
क़बूल अभिधा में जो
                   कर लिया
—सज़ा से बचेगी कैसे !

15 अप्रैल 2010