भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

अभिवादन / एज़रा पाउंड / एम० एस० पटेल

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

ओ पूरी तरह आत्मतुष्ट
और पूरी तरह बेचैन पीढ़ी,
धूप में सैर-सपाटे करते मछुआरों को मैंने देखा है,
उन्हें अस्त-व्यस्त गृहस्थियों के साथ मैंने देखा है,
उनकी भरपूर मुस्कानें मैंने देखी हैं,
और उनकी फूहड़ हँसी मैंने सुनी है ।

तुमसे मैं सुखी हूँ
मुझसे वे सुखी थे,
अपने कपड़ों के बिना भी
मछलियाँ झील में तैरती हैं।

मूल अँग्रेज़ी से अनुवाद : एम० एस० पटेल