भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

अभिशप्त अप्सरा / रामेश्वर काम्बोज ‘हिमांशु’

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज


भावों की नदी
प्रेम नीर से भरी
छलकती थीं
तटों को तोड़कर
बना ही दिया
तुम्हारी ही वाणी ने
प्रियात्मा को भी
अभिशप्त अप्सरा।
छीने थे भाव
कुचला अनुराग
बिछाते रहे
पथ में सिर्फ़ आग।
तुम्हें क्या मिला
छीनकर चाँदनी!
कुंठा तुम्हारी
प्रसाद बन मिली
मुर्झाती गई
वह रूप की कली
आज जो देखी
वह उदास परी
रो उठा मन
प्रभु से मैं माँगता-
सुख उसको मिले !