भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

अभी-अभी / हरीश भादानी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

अभी-अभी
जगा हुआ निर्याम!
सृष्टि के
प्रारम्भ को प्रारुपति
विस्तारती अरुणाइयाँ अछोरों तक
और यह अभी अभी
सधा हुआ आयाम
शिखरों को परसने जा रहा है-
साक्षी है सूरजमुखी!
यह सब
बड़ी प्रतीक्षाबाद
अभी-अभी जन्मा हुआ परिणाम!