भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

अभी उम्मीद ए क़रार ओ सुकूँ नहीं मुझको / ज़िया फ़तेहाबादी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

अभी उम्मीद ए क़रार ओ सुकूँ नहीं मुझको |
अभी तो इश्क़ के देने हैं इम्तिहाँ मुझको |

कभी गुलों कभी मौजों कभी सितारों में
तलाश ए हुस्न तो रखती है सरगराँ मुझको |

न दैर में न हरम में झुकी जबीन ए नियाज़
कहीं तो मिलता तेरा सँग ए आस्ताँ मुझको |

अज़ल में जब हुई तक़सीम ए आलम ए फ़ानी
बतौर ए ख़ास मिला सोज़ ए जाविदाँ मुझको |

मेरे बगैर " ज़िया " कारवाँ रवाना हुआ
मिली अमाँ तो तह ए गरद ए कारवाँ मुझको |