भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  काव्य मोती
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

अभी तो आये हो / धीरेन्द्र अस्थाना

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

अभी तो आये हो ,
और आते ही जाने की बात कह दी!

कई लम्हातों के शिकवे तुमसे है करने हमे ,
मुद्दतो के वो गिले तुमसे हैं कहने हमे
दिल अभी भरा नहीं ...
और दिल दुखाने की शुरुवात कर दी!
अभी तो आये हो ,
और आते ही जाने की बात कह दी!

आँखों का है शिकवा हमें दीदार नहीं मिलता ,
मेरे चैन का है गिला ,मुझे करार नहीं मिलता ,
और क्या खे तन्हाई ...
तुमने जो रुसवा हो जाने की बात कह दी!
अभी तो आये हो ,
और आते ही जाने की बात कह दी!

मेरी तमन्नाओं को न अधूरा छोड़ कर जाओ ,
ख्वाब ही सही तुम ,यूँ न मुह मोड़ कर जाओ,
अभी तो याद अये हो....
और तुमने भूल जाने की बात कह दी!
अभी तो आये हो ,
और आते ही जाने की बात कह दी!