भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

अभी बहुत कुछ / प्रदीप शुक्ल

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

अभी नहीं
पानी पहुँचा है नाव में
अभी बहुत कुछ
बचा हुआ है गाँव में

गलियारा खो गया
मगर जो सड़क बनी है
उसके दोनों ओर
अभी भी नीम तनी है
खेल रहे हैं
बच्चे उसकी छाँव में

सिकुड़ गया है ताल
मगर अब भी है पानी
अलग भले संतो की
रहती हो देवरानी
मिलती है तो
झुक जाती है पाँव में

लौट गए हैं बंशी काका
महानगर से
पिंजरे से झाँका करते थे
वह ऊपर से
चले गए थे
गाँव छोड़ कर ताव में
अभी बहुत कुछ
बचा हुआ है गाँव में