भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

अमर पेड़ / राजेन्द्र देथा

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

इन दिनों कविताएँ महज
एक पोथी का शब्द रह गयीं
भावनाओं के साथ
अक्षर कुचल दिए गए है
ठीक हाथी के पैर सी ताकतों ने
हाल ही की बात है
शांति सम्मेलन में
दो बारूद बरामद हुए है।
उन दिनों की तरह
पत्रकारिता,पत्रकारिता नहीं रही
वह चाकू की नोंक पर भेष बदल
पक्षकारिता बन गयी है।
लेकिन क्या मौलिकता कभी दबेगी?
नहीं, कभी नहीं!

सुनो!
तर्कहीन ताकतों
तुम उस अमर वटवृक्ष को
कभी काट न पाओगे
जो तुम्हारे द्वारा
अधिकार छीनने पर भी
अटल ठूंठ बना फिरता है।