भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

अमलताश के फूल खिले / सरोजिनी कुलश्रेष्ठ

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

देखो बेटा फूल खिले
अमलताश के फूल खिले

उठकर तुम खिड़की से देखो
लगते कैसे भले-भले

झुग्गों से लटके डालों पर
सौ सौ हार टंगे डालों पर

सूरज निकला पूरब में तो
चमके किरणों में ये फूल

पाँच पंखुड़ी वाले फूल
पीले-पीले सुन्दर फूल

डालों से लटके-लटके से
कैसी शोभा देते फूल

जागो जागो चलकर देखो
कैसे प्यारे लगते फूल