भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

अमलतास के फूल / सरोजिनी कुलश्रेष्ठ

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

भीषण गर्मी में भी कैसे
खिलते अमलतास के फूल
बेटा उठकर खिड़की से देखो तो
कितने सुन्दर लगते फूल
सूरज की किरणों में चमकें
सोने के गहनों से फूल
डालों पर माला सी बन कर
लटके रहते पीले फूल
इन्हें पहन कर हरी डालियाँ
मन ही मन शरमाती हैं
झुमके, पायल हमको देने
धीरे से झुक झुक जाती हैं
आओ देखो इनकी शोभा
कैसे मन को भाते हैं
चलों इन्हीं के पास चलें
ये डाली हिला बुलाते हैं।