भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

अमेरिका तू अकडै़ दिखावै, या मरोड़ काढ़द्यां सारी / जय सिंह खानक

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

अमेरिका तू अकडै़ दिखावै, या मरोड़ काढ़द्यां सारी
हो तेरी द्यांगे मेट बिमारी
 
कोणसी तेरै बिमारी सै, या सारा चैकअप कर ल्यांगे
नस-नस के म्हां घुसकै नै, तैयार कैप्शूल कर ल्यांगे
फेरभी तू ना ठीक हुआ तो, हम सर्जरी कर द्यांगे
रळ मिलकै नै संगठन करके, ऑपरेशन तेरा कर द्यांगे
जिंदगी भर कदे बोलै कोनी, तेरे मुंह पै ताळा जड़ द्यांगे
जितनी दादागिरी करी सै, हम मिलकै बदला ले ल्यांगे
तनै दुनियां मैं तै खो द्यांगे, फेर धाक जमैगी म्हारी
 
मानवता का दुशमन होर्या, तनै शर्म कती ना आवै सै
आपे घणे हथियार बणावै, औरां नै, सबक सिखावै सै
कट्ठी करके बारूद सारी, झुट्ठा रोब जमावै सै
कदे भी चुप बेठै कोनी, तनै रोज शैतानी सुझै सै
जब चाहवै तू हमला करदे, ना राष्ट्र संघ बुझै सै
अरब, कोरिया और लीबिया, तनै रोज लड़ाई सुझै सै
तु किसे तै ना बुझै सै, के तेरी मती गई सै मारी
 
पर्यावरण, प्रदुषण भी तू, सबतै ज्यादा करर्या सै
बम धमाके करके नै तू, घोर अंधेरा करर्या सै
दुनिया के जितने संसाधन, तू सबपै कब्जा करर्या सै
हथियारां की होडै़ लगाकै, तू शीत युद्ध करवार्या सै
विकास नाम की चीज नहीं, यो आम आदमी मरर्या सै
तू लूट-लूट के पूंजी सारी, तू अपणे घरनै भरर्हया सै
क्यूं बुराई सिरपै धरर्या सै, ना जान बचैगी तेरी
 
लाचार और गरीबां नै, तू रोजे धमकी देवै सै
बर्ड-वार तीसरा होज्या, तू घणे इसारे देवै सै
इबकै जान बचै कोनी क्यू स्वयं बावला होवै सै
अफ्रीका और एशिया मिलकै, तेरी सारी चमड़ी पाड़ैंगे
पिछला बदला लेवण खातर, तेरा सारा नक्शा-झाडै़ंगे
किते का भी छोडैं कोन्या, तनै दुनियां मै तै ताडैग़ें
तनै रळ मिलकै नै पाडै़ंगे, यो कह जयसिंह प्रचारी