भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

अम्बर भी आन मिले तब / सरदार सोभा सिंह

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

 

 अम्बर भी आन मिले तब

उड़ान भरी
दबी हुई निराशा ने
आई आशाओं की बाढ़
दब गए कला औ’ दिमागी अहंकार
खिल उठी हर कली आशाओं के बाग की

धमनियाँ , शिराएँ, पोर-पोर
हुए एकाकार
हस्ती के झंझट झमेलों से पार
बिन पंखों के भी उड़ा मैं अम्बरों पर
अम्बर भी आन गिरे तब
धरती पर.