भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

अयाँ है हर तरफ़ आलम में हुस्ना-ए-बेहिजाब उसका / वली दक्कनी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

अयाँ है हर तरफ़ आलम में हुस्‍न-ए-बेहिजाब उसका
बग़ैर अज़ दीदा-ए-हैरां नहीं जग में निक़ाब उसका

हुआ है मुझ पे शम्‍मे-बज्‍म़ यकरंगी सूँ यूँ रौशन
कि हर ज़र्रे उपर ताबाँ है दायम आफ़ताब उसका

करे उश्‍शाक़ कूँ ज्‍यूँ सूरत-ए-दीवार हैरत सूँ
अगर पर्दे सूँ वा होवे जमाल-ए-बेहिजाब उसका

सजन ने यक नज़र देखा निगाह-ए-मस्‍त सूँ जिसकूँ
ख़राबात-ए-दोआलम में सदा है वो ख़राब उसका

मिरा दिल पाक है अज़ बस 'वली' रंग-ए-कदूरत सूँ
हुआ ज्‍यूँ जोहर-ए-आईना मख़्फ़ी पेचो-ताब उसका