भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

अयोध्या-6 / सुधीर सक्सेना

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

जहाँ राम नहीं
वहाँ अयोध्या नहीं
न कहीं राम के बिना अयोध्या
और न कहीं अयोध्या के बिना राम
राम के होने से ही अवधपुरी अति परम सुहावन और
राम के न होने से पावन सुषमा से हीन

जहाँ-जहाँ राम का वास
वहाँ-वहाँ अयोध्या
आज भी जहाँ पर भी है राम
बस, वहीं पर बसी है परम पावन अयोध्या ।