भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

अयोध्या-8 / सुधीर सक्सेना

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

अयोध्या में राम जी ने कभी चाप नहीं चढ़ाया
नौबत नहीं आई कभी शरसंधान की अयोध्या में
और रामानुज ?
रामानुज तो तोड़ते रहे धनुही पर धनुही अयोध्या में लरिकाई में
और तो और कोई दृष्टांत नहीं अयोध्या में धनुर्धरों के हस्तलाघव का

अयोध्या में राम जी ने बाँटा प्रेम
इत्ता कि अयोध्या में आज भी सब राम जी की चिरैया,
अयोध्या की धूल रामरज
और सबकी कहानी रामकहानी

अयोध्या में पावस में बरसता नहीं पानी
अयोध्या में वर्षा ऋतु में जब भी बारिश होती है
बरसता है राम-रस ।