भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

अरथ / मोहन सोनी ‘चक्र’

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

म्हैं आपरो
काळजो काढ’र
धर दीन्हो
वीं रै साम्हीं
आखरां रै मिस
पण थूं है कै
अरथ बूझतो
बाज ई नीं आवै।