भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार
Roman

अरदास / सांवर दइया

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

आभै री अणंत कोरां तांईं पूग
टाबरां खातर चुग्गो भेळो कर
सिंझ्या पाछो बावड़ सकूं घूरसाळै में
              बा पांख दीजै म्हनै

जुगां सूं अंधारै में गम्योड़ा
सुखां रा मारग सोध सकूं
भावी पीढ़यां खातर,
              बा आंख दीजै म्हनै

नींतर ओ मालक!
म्हैर रै नांवै
म्हैर कर र
कोई म्हैर मत करीजै
        म्हारै माथै!