भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार
Roman

अर अचाणचक / सांवर दइया

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

आभै में उडतै
पंछी नै देख
      मुळकूं
      हरखूं
      उच्छब मनावूं

……अर अचाणचक
आकळ-बाकळ हो जावूं

अटकै म्हारी आंख
आड़ लेय ऊभो
पारधी निजर आवै
म्हारी सांस
ऊपर री ऊपर
हेठै री हेठै रह जावै !