भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

अलबामा की एक भोर / लैंग्स्टन ह्यूज़

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मुखपृष्ठ  » रचनाकारों की सूची  » रचनाकार: लैंग्स्टन ह्यूज़  » संग्रह: आँखें दुनिया की तरफ़ देखती हैं
»  अलबामा की एक भोर

अगर मैं एक संगीतकार बना
तो अलबामा की भोर का संगीत तैयार करूँगा
और इसमें दुनिया का सबसे पवित्र गीत होगा
वह संगीत धरती से उठता हुआ होगा
जैसे दलदल से उठता है कुहासा
और जैसे आसमान से गिरती हैं
ओस की कोमल बूँदें
मैं इसमें कुछ ऊँचे-ऊँचे पेड़ भी शामिल करूँगा
और अन्नानास की सुगन्ध
और वर्षा के बाद लाल मिट्टी से उठती गंध
और लोगों की लंबी गर्दनें
और उनके सफ़ेद चेहरे
अफ़ीम के फूल जैसे
और लंबे-लंबे भूरे हाथ
और खेतों में खिले
डेजी के फूलों जैसी आँखें
काले और गोरे, गोरे और काले लोगों की
और मैं इसमें गोरे हाथों को शामिल करूँगा
और काले हाथों को, और भूरे और पीले हाथों को
और लाल मिट्टी से सने हाथों को
शामिल करूंगा उस संगीत में
हर किसी को स्पर्श करती कोमल उँगलियों को
और एक-दूसरे को स्पर्श करती
ओस की स्वाभाविक कोमलता से
और संगीत की उस भोर में
अगर मैं एक संगीतकार बना
तो अलबामा की भोर का संगीत तैयार करूंगा


मूल अंग्रेज़ी से अनुवाद : राम कृष्ण पाण्डेय