भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

अल्पदृष्टि / कुँवर दिनेश

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज


मानसून का सघन शून्य,
आर्द्र अश्माएँ,
धरा की ओर
लुपलुपाता, आँख मिचकाता सूर्य,
धुँधकार में धँसता - शिमला।

मैं
खड़ा ऐकिक
नगर के नुक्कड़ से
देखता हूँ ताज़ा―
ताज़ा धुँधेरी―
उमड़ती घुमड़ती हुई
घाटी की दरारों में से,
परिवेश का आच्छादन करती,
प्रत्येक वस्तु को ढाँपती;

बचा रहता हूँ मैं
मेरी एकलता में
एकमात्र मैं
अस्तित्व में,
एक हस्ती
लुप्त होते नगर में।