भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

अवगाहन / तसलीमा नसरीन

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मुखपृष्ठ  » रचनाकारों की सूची  » रचनाकार: तसलीमा नसरीन  » अवगाहन

मुझे भला क्या ज़रूरत किसी चीज़ की
अगर तुम्हें पा लूँ
जी करता है पैरों के पास आकर ठहर जाए शीतल नदी
और मैं खो जाऊँ

मूल बांग्ला से अनुवाद : मुनमुन सरकार