भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

अविकसित / स्वाति मेलकानी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

कपड़ों और माँस की
कई तहों के नीचे
कैसा रहा होगा इन्सान
असलियत में।
चेहरा, नैन-नक्श
कितने अलग दिखते होगें।
लटके गालों में
धँस चुकी आँखें
शायद
कुछ ज्यादा बड़ी रही होंगी
और
उसी अनुपात में
बड़े रहे होंगे
दिल और दिमाग।
सुना है डाइनासोर बहुत बड़े होते थे
शुरूआती कम्प्यूटर
और
मोबाइल भी
काफी बड़े थे
पर
धीरे-धीरे
छोटे हो गये
वरना अविकसित रह जाते
बड़े दिल
और दिमाग वाले
मनुष्य की तरह।