भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

अविश्वासी शिव / सतीश रोहड़ा

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

असीं आहियूं अजु/ जा शिव
असां पीतो आहे
अविश्वास जो अमृतु
ऐं थी विया आहियूं
अमर अविश्वासी!
हाणे असीं
विश्वास भरियो जीवनु
जी नथा सघूं
ऐं अविश्वास जो ज़हरु
असां खे मारे नथो सघे।
असीं हाणे अमर आहियूं
अमर अविश्वासी
असां खे हाो जीअणो आहे
रुॻो तड़फिणो आहे, मरिणो नाहे!

(रचना- 97, 2003)