भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

अश्क में भी हँसी है-2 / वर्तिका नन्दा

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

पानी में जिस दिन किश्ती चली थी
तुम तब साथ थे
तब डूबते-डूबते भी लगा था
पानी क्या बिगाड़ लेगा