भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

असत्य / सत्य / महेंद्रसिंह जाडेजा

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

असत्य
पहाड़ जितना भी
बर्फ़ की तरह
पिघल जाता है ।

सत्य
कणी जितना भी
हीरे की तरह
शाश्वत है ।

मूल गुजराती भाषा से अनुवाद : क्रान्ति