भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार
Roman

असाढ सागै लूवां दोरी लागै / सांवर दइया

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

असाढ सागै लूवां दोरी लागै
आ छीयां रूपाळी छोरी लागै

धोरां बिच्चै ऊभो ठूंठ ऐकलो
टुटती सांस री आ डोरी लागै

तपतै माथै थारो हथाळी-परस
सांस लागै जुड़ सांस सोरी लागै

झूंपडी री आंख अटकी सड़क कानी
’गोबर’ रो सोच करै ’होरी’ लागै

कूड़ी कलम करै ऐ कागद काळा
मन-पोथी अजै साव कोरी लागै