भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

असूलों से बग़ावत कर रहा हूँ / मनोहर विजय

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

असूलों से बग़ावत कर रहा हूँ
मुख़ालिफ से मुहब्बत कर रहा हूँ

मुझे मालूम है अंजाम फिर भी
तेरी तुझसे शिक़ायत कर रहा हूँ

मुहब्बत में शिकस्तें खाते-खाते
मैं औरों को नसीहत कर रहा हूँ
       
हज़ारों दाँव आते हैं मुझे भी
अभी तो मैं शराफ़त कर रहा हूँ

झुकाकर अपना सर ख़ंजर के आगे
मैं का़तिल पर इनायत कर रहा हूँ

मुझे भी आ गया जीना ‘विजय’ अब
सियासत से सियासत कर रहा हूँ