भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

अस्ल मुद्दों से तो भटका रहे हैं हमको वे / कैलाश मनहर

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

अस्ल मुद्दों से तो भटका रहे हैं हमको वे ।
कँटीली बाड़ में अटका रहे हैं हमको वे ।

नोट-बन्दी तो कभी गाय कभी जी०एस०टी०,
रोज़ी-रोटी से पर लटका रहे हैं हमको वे ।

विपक्ष-मुक्त ही बनना है कामना उन की,
परस्पर तोड़ कर चटका रहे हैं हमको वे ।

वतन परस्त हैं, बस, वे कि हम गद्दार सभी,
कूड़े-कचरे-सा ही फटका रहे हैं हमको वे ।

रंजिशो-दुश्मनी रखते हैं अपने दिल में औ’
दूसरों का दिखा खटका रहे हैं हमको वे ।