भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

आँखें दें आइना दें / शीन काफ़ निज़ाम

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

आँख दे आईना दे
लेकिन पहले चेहरा दे

दरिया जैसा सहरा दे
उस में एक जज़ीरा दे

लौटा ले अपनी बस्ती
मुझ को मेरा सहरा दे

मैं पैदल वो घोड़े पर
सर नेज़े से ऊँचा दे

रहने दे जलती धरती
तू सूरज को साया दे

हिरणी जैसी आँखों को
सहराओं का सपना दे