भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

आँखें मेरी / वेरा पावलोवा

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

आँखें मेरी
इतनी उदास क्यों ?
क्या हँसमुख नहीं मैं ?

शब्द मेरे
इतने रूखे क्यों ?
क्या विनम्र नहीं मैं ?

काम मेरे
इतने अहमक क्यों?
क्या अक़्लमन्द नहीं मैं ?

दोस्त मेरे
इतने बेजान क्यों?
क्या मज़बूत नहीं मैं ?

अँग्रेज़ी से अनुवाद : मनोज पटेल