भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

आँख मिचौनी / सरोजिनी कुलश्रेष्ठ

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

खेले आँख-मिचौनी आओ,
प्यारे बच्चों सब आ जाओ।

भैया आओ, मुनिया आओ,
बंटी, पप्पू तुम भी आओ।

भैया कि आँखों पर पट्टी,
बाँधें आओ, तुम सब आओ।

यह सबको छूने आएगा
हम सब भागें जल्दी आओ।

खेले आँख-मिचौनी आओ,
खेले आँख-मिचौनी आओ।