भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

आँख में नमी / ज्योत्स्ना शर्मा

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

11
चले भी आओ!
चातक हुआ मन
न तरसाओ.
12
यूँ तो वीरानी
फैली है चारों ओर
भीतर शोर!
13
आँख में नमी
कहो क्या खलती है?
हमारी कमी!
14
नन्हें क़दम
चलके आओ धूप
मेरे आँगन!
15
बोझ का मारा
फट पड़ता दिल
जैसे बादल!
16
धूप, छाँव में
ख़ुशबू, फूल कभी-
शूल पाँव में!
17
वादे आबाद
बेचैन करती है
आवारा याद!
18
पान-गिलौरी
खूब रंग लाती है
याद निगोड़ी!
19
किसकी याद?
भोर के मुख पर
सुख-संवाद!
20
एक चाहत
सुना गई दुख को
सुख की बात!