भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  काव्य मोती
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

आँसू और आँखें / अयोध्या सिंह उपाध्याय ‘हरिऔध’

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

दिल मचलता ही रहता है ।
सदा बेचैनी रहती है ।
लाग में आ आकर चाहत ।
न जाने क्या क्या कहती है ।।१।।

कह सके यह कोई कैसे ।
आग जी की बुझ जाती है ।
कौन सा रस पाती है जो ।
आँख आँसू बरसाती है ।।२।।