भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

आँसू बाँचूँ / कविता भट्ट

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

1
जीवन पथ
विगत दुःख घट
आशा तुमसे।
2
नैन विकल
लिखें पाँती आँसू से
कभी तो बाँच।
3
पीत-पुष्प सा
सुमुख मुरझाया
अब तो आओ ।
4
शीत शरद
तुम बिन बैरी हो
कटु मुस्काए।
5
मीत मन के
कभी तो आते तुम
स्वप्न बनके ।
6
सलवटों -सी
मन-चादर पर
विरह व्यथा ।
7
नित प्रयास
आँसू बाँचूँ तुम्हारे
दे दूँ मैं हास ।
-0-