भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

आँसू / रोज़ा आउसलेण्डर

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

ये बुझाते हैं आग
जो जलती है तुम्हारे भीतर ।

आदेश पर
विस्मयकारी क्षणों के
ढुलक जाते हैं तुम्हारी आँखों से
गालों के रास्ते नीचे वे ।

रोक नहीं सकता इन्हें कोई
नहीं लेते हैं तुमसे वे अनुमति
ये हैं विश्वसनीय नमकीन बूँदें
तुम्हारे अन्दर के समुद्र की II

मूल जर्मन भाषा से प्रतिभा उपाध्याय द्वारा अनूदित