भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

आंख्यूं बटि इत्गा आंसु पड़्यां भ्वां / जयवर्धन काण्डपाल

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

 आंख्यूं बटि इत्गा आंसु पड़्यां भ्वां
भरि जांदू पूरू, सूखु क्वे कुवां
मन मा खौड़ का जु आड़ा फूक्यां मिन
तब जै पाकी माया जब लगाई धुवां
सारु त नि दीनि हाथ पकड़ी कैन
गिच्चु पिचके सबुन ब्वौलि यरां यरां
लुकारू दीन्यूं खारू मुण्ड तौंन लगाई
म्येरू दीन्यूं अमरत वत डाळि च्वां
तैंकि घाम औन्दि ट्वप्टि बन्द ह्वेगि
जु ज्वौन रातम छे रौब झऽणी बिजां