भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

आंख से देखा है क्या कुछ बयां क्या कीजिए / मेला राम 'वफ़ा'

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

आंख से देखा है क्या कुछ बयां क्या कीजिए
इक जहां को दरपऐ-आज़ारे जां क्या कीजिए

ये हवादिस का तवातुर ये मसाइब का हुजूम
आरज़ूए-ज़िन्दगीए-जाविदां क्या कीजिए

बागे-हस्ती में कि तूफाने-शदाइद है बपा
ज़हमते-अज़्मे-बिनाए आशियाँ क्या कीजिए

हर किसी से शिकवा-ए-अहले-जहां का फायदा?
हर किसी से शिकवा-ए-अहले जहां क्या कीजिए

कीजिए ख़ुद ही सबीले-इब्तिदाए-इंक़िलाब
इंतिजारे-इंकिलाबे-आसमां क्या कीजिए

मेहरबानी रहम का है दूसरा नाम ऐ 'वफ़ा'
मेहरबानी पर महब्बत का गुमां क्या कीजिए।