भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

आंधी / अमरजीत चंदन

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

यह छोकरी आंधी से बहुत डरती है
कहती है : आंधी आएगी
हर तरफ़ गंदगी भर जाएगी
अमलतास के प्यारे-प्यारे फूल झर जाएंगे
पेड़ों से तने टूट जाएंगे, परिन्दे मर जाएंगे

यह छोकरी नहीं जानती
आंधी आएगी
अपने साथ बरखा लाएगी
हर तरफ़ ठंडक भर जाएगी
अमलतास की रगों में हरा ताज़ा लहू दौड़ेगा
अगली रुत में फूल और प्यारे होंगे
और गहरे पीले
यह सब यह छोकरी नहीं जानती

मूल पंजाबी भाषा से अनुवाद :