भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  काव्य मोती
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

आंरी आदत खोटी देखो / सांवर दइया

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

आंरी आदत खोटी देखो
नित उठ मांगै रोटी देखो

कूदै-दड़ूकै ऐ कलदार
आ मिनख जात छोटी देखो

दो टकां री बाजै नौकरी
हुई मिनख सूं मोटी देखो

छपनो छाती छोलै म्हांरी
बांनै दारू-बोटी देखो

रीस कर पूछै रेत सवाल
कुण सांभै आ सोटी देखो